-पिछले तीन हफ्ते से चले आ रहे वकीलों के आंदोलन ने आज बड़ा रूप लेते हुए ,वकीलों ने कचहरी परिसर और आसपास की दुकानें भी बंद करा दी , दरअसल मुरादाबाद के वकील रजिस्टरी कार्यालय का कही दूसरी जगह होने वाले ट्रांसफर का विरोध कर रहे हैं, वकीलों का कहना हैं कि रजिस्टरी कार्यालय अगर कही दूर ले जाया जायेगा तो रजिस्टरी कराने वाले लोग असुरक्षित हो जाएंगे उनके साथ कोई भी घटना हो सकती हैं, इसलिए सभी लोग चाहते हैं कि रजिस्टरी कार्यालय यथावत रहे या कचहरी परिसर में ही कही अन्य स्थान पर ट्रांसफर किया जाए, अगर जिला प्रशासन इसे कही दूर ले जाने किस प्रयास करेगा तो वो अपने आंदोलन को लम्बा चलाने के लिए मजबूर होंगे, इसी मांग को लेकर आज सुबह से ही वकील कचहरी परिसर में जुटने शुरू हो गए थे, भीड़ के मद्देनजर जिला प्रशासन ने डीएम कार्यालय के आसपास अतिरिक्त पुलिस बल लगा दिया गया था, क्योकि वकीलों ने कल ही बार एशोसिएशन ने प्रशासन को आगाह कर दिया था, कि वी लोग पूरी तरह से हड़ताल पर रहने वाले हैं, कमिश्नर कार्यालय पहुँच कर अपनी बात कहेंगे, किसी भी परिस्थिति से निपटने के भारी संख्या में पुलिस का इंतजाम किया गया था, क्योकि पूर्व में वकीलों के द्वारा डीएम मुरादाबाद के साथ अभद्रता की गई थी,
रजिस्ट्री कार्यालय की वापसी को लेकर आज वकील सड़क पर उतर आए, और कचहरी को पूरी तरह बंद करने के आह्वान के साथ सभी वकील एक जुलूस की शक्ल में निकल पड़े,और मुरादाबाद कमिश्नर कार्यालय का घेराव करते हुए जमकर नारेबाजी करते हुए एक ज्ञापन सौपा
दोपहर के समय सैकड़ो की संख्या में वकील एक जुलूस की शक्ल में कमिश्नर ऑफिस जा पहुँचे और नारेबाजी करते हुए गेट का घेराव कर दिया , आधे घण्टे से भी अधिक समय तक चले प्रदर्शन के बाद कमिश्नर मुरादाबाद ने वकीलों के एक प्रतिनिधि मण्डल को बातचीत करने के लिए बुलाया, और बातचीत करने का आश्वासन दिया

LEAVE A REPLY