• सूत्रों के मुताबिक, 26 फरवरी को बालाकोट में जैश-ए-मोहम्मद के ठिकानों पर भारतीय वायुसेना की एयर स्ट्राइक के बाद से पाकिस्तान राजस्थान सीमा पर लगातार यूएवी भेजकर जासूसी कर रहा है। पाक का एक यूएवी गुजरात के कच्छ में मार गिराया गया था। इसके अगले दिन बाड़मेर में भी एक यूएवी नजर आया था।
  • यूएवी कई घंटों तक उड़ान भर सकता है। खास तौर पर इसका इस्तेमाल जासूसी के लिए किया जाता है। हालांकि, उन्नत तकनीक से लैस कुछ यूएवी दुश्मन पर हमला भी कर सकते हैं, लेकिन पाकिस्तान के पास हमलावर यूएवी नहीं हैं।

पाक के विमानों ने 27 फरवरी को घुसपैठ की थी

एयर स्टाइक के अगले दिन पाकिस्तान के तीन लड़ाकू विमानों ने कश्मीर के पुंछ और राजौरी सेक्टर में घुसपैठ कर भारतीय सेना के ठिकानों को निशाना बनाने की कोशिश की थी। इसके बाद भारत के मिग-21 विमानों ने इन्हें खदेड़ा। विंग कमांडर अभिनंदन ने एफ-16 विमान को मार गिराया था। इस कोशिश में उनका मिग विमान भी पीओके में क्रैश हो गया था।

LEAVE A REPLY